आइये जानें गंगोत्री को

आइये जानें गंगोत्री को

यदि हम भारत को गंगासंस्कृति का देश कहे तो कोई अतिशयोक्ति नही होगी क्योकि यहां के जनमानस में गंगा उनके जीवन का अभिन्न अंग है जन्म से मुत्यु तक उसके उपरान्त भी गंगा गंगजल प्राण से जुडा है कोई भी हिन्दु गंगाजल की उपेक्षा नही कर सकता । इसी दिव्य प्राणदेनी वाली नदी के लिए माना जाता है कि गंगोत्री में गंगा का अवतरण हुआ था। (गंगा अवतरण की कथा इस ब्लाग पर ही अन्यंत्र पढ सकते है) गंगोत्री तीर्थ ही वह जगह है जहां सर्वप्रथम गंगा का अवतरण हुआ था । हिमानी के क्रमश: पिघलते रहने पर यह उद्गम18 किमी0 पीछे गोमुख में चला गया ।

महाभारत में इस तीर्थ का परिचय गरूड के मुख से गलव ऋषि ने इस प्रकार कराया गया है “यही आकाश से गिरती हई गंगा को महादेव जी ने अपने मस्तक पर इस धारण किया और उन्हे मनुष्य लोक में छोड दिया ।”यही भगीरथी के अनुरोध से गंगा स्वर्ग से पुथ्वी पर अवतरित हई व उत्तरवाहिनी बनी उसे गंगोत्तरी कहा गया । 1816 में जब जेम्स वेली फ्रेजर के दल के लोग यहां पहुचे तो तीर्थ  के वातावरण व दृश्यों को देखकर चकित रह गये थे।

छ माह के शीतकाल के दौरान गंगोत्री मंदिर के पट बन्द हो जाते है फिर ग्रीष्म काल में खुलते है बार भी अक्षयतृतीया के दिन मुखवा जिसे मां गंगा के मायका कहते है पूरी भव्यता के साथ मां गंगा की डोली विभिन्न पडावो से होकर गंगोत्री पहुंचती है तभी से गंगात्रीधाम की यात्रा के लिए यात्रियों का आवगमन भी शुरू हो जाता है इस मंदिर के कपाट खुलने के इस अनोखे दृशय को देखने के लिए देश-विदेश से यात्री व श्रद्वालुओ आवागमन पहले ही शुरू हो जाता है । जब अन्यत्र गर्मी का भीषण प्रकोप बढता जाता है यहां मौसम खुशगवार व सुहावना होता है रात को ठंड होती है ।गंगोत्री उत्तराखण्ड चारधाम यात्रा का का एक प्रमुख धाम है ।इस धाम के लिए ऋषिकेश से उत्तरकाशी,भटवाडी से,गंगनानी,हर्षिल मुखवा,धराली ,भरौघाटी होते हुए वाहन से पहुचा जा सकता है ।यात्रामार्ग में चिन्याडीसौड,बडेथी,धरासु,डुंडा,नाकुरी ,मातली,ज्ञानसु,उत्तरकाशी ,जोशीयाडा,गंगोरी,नेताला,भडवाडी ,सुक्की टॉप गंगनानी ,हर्षिल,धराली गंगोत्री आदि स्थानों पर रहने व ठहरने की व्यवस्था है.

पर्वतों से घिरे भारी शिलाखंडो व धरातलीय स्थिति के कारण जब तक गंगोत्तरी के निकट नही पंहुचा जाता तब तक इस तीर्थ की स्थिति का पता ही चल पाता रास्ते तमाम बाधाओ को पार कर जब तीर्थ यात्री,श्रद्वालु एंव पर्यटक गंगोत्री पहुंचते है तो यहां के सुन्दर प्राकृतिक दृशय देख सारी थकान भृल जात है और पंहुच जाते है गंगा के करीब उसके उदृगम के आस-पास यह सोच कर भी रोंमाच से भर उठते है कि यही वह जगह है जहां जीवनदायिनी मां गंगा धरती पर आयी उत्तरवाहिनी बनी व इस जगह को गंगात्री का कहा गया ।

प्राचीन काल में इस स्थान में कोई मंदिर नही था केवल भागीरथी शिला के पास चौतरा था जिसमें देवीमूर्ति को यात्राकाल के 3-4 मास दर्शनार्थ रखा जाता था । तब इस मूर्ति को उत्सव समारोह के साथ यात्राकाल के प्रारम्भ में अनेक बदलते रहते मठस्थान ,क्रमश:शयामप्रयाग ,गंगामंदिर धराली या मुखवा ग्राम ये लाया जाता था तथा यात्राकाल की समाप्ति पर यही वापस ले  जाया भी जाता था । यह प्रथा उत्तराखण्ड के अन्य तीर्थो में भी थी और इस प्रकार प्रत्येक तीर्थ देवता के ग्रीष्मकालीन और शीतकालीन आवास पृथक होते थे यह प्रथा जारी है । यमनोत्री व गंगोत्री तीर्थो की यह विशेषता भी रही कि यहां मंदिर बनाना उचित नही समझा गया कारण यह भी कि जहां स्वयं देवी माता साक्षात स्वरूप में विघमान है और भक्तों तथा पापियों का उद्वार करने के लिए कुण्ड की अथवा प्रवाह रूप में सुलभ है वहां मुर्ति रखने की क्या आवश्यकता है ?

वेदव्यास ने बह्रम की अराधना को प्रकृति के खुले प्रांगण में करने को ही सर्वोपरि बताया था व नदियों को विश्वमाता बताते हुए घोषित किया था कि “विश्वस्य मातर:सर्वश:चैव महाफला।”फ्रेजर को उन्नीसवीं शती ई0 के प्रारम्भ में मिली जानकारी पूर्ण ऐतिहासिक थी , कि पहले यहां कोई मंदिर नही था। रीपर द्वारा भेजे गये पंडित ने 1808 ई0 में जो सुचना दी थी उसके अनुसार मंदिर पत्थर और लकडी का बना था।

उन्नीसवीं शती के मध्य में पुन: वहां एक प्रकृति प्रेमी एमा रार्बट का खोजी दल पंहुचा वहां के मनोरम दृशय का तुलिका से चित्रण करने के उपरान्त यह संक्षिप्त सूचना भी दी कि भागीरथी धारा से 20 फूट उचाई पर एक चटटान के उपर एक गोरखा सामन्त ने अपनी विजय के प्रतीकार्थ यहां देवी के सम्मान में यह छोटा पगौडा शैली का मंदिर बनवाया था और उन ब्राहृमणों को इसके निकट आवास दिया थां। भारत के विभिन्न भागों को जाने वाले गंगाजल पर यहां पवित्रता की मुहर लगायी जाती है। मंदिर का र्निमाण किसने करवाया इस बारे में एक राय नही है ।

1816 में जब फ्रेजर ने नया विवरण प्रस्तुत किया तो गंगोत्री का पंडित व उसक परिवार के सदस्यों का मुखवा ग्राम में रहने का उल्लेख मिलता है यह भी पता चलता है कि 1788ई0 में गंगोत्तरी का मठ उजडा हुआ था जिससे यह तथ्य भी ध्यान में आता है कि मंदिर का निर्माण इस तिथि से पहले हो चुका था संभवत पहले वहां लकडी का मंदिर था उत्तराखण्ड के मंदिरों के इतिहास के बारे में लिखी गयी पुस्तकों से भी ज्ञात होता है कि अमरसिंह थापा ने मुखवा -गंगोत्तरी का कीमति प्रदेश गूंठ में दिया था । गंगोत्री का वर्तमान मंदिर बनाने का श्रेय बीसवी शती ई0  के प्रारम्भ में जयपुर नरेश माधोसिहं  को दिया जाता है मंदिर के गवाक्ष राजस्थानी शैली के तथा बरामदें के स्तम्भ राजस्थानी पहाडी शैली के मिश्रित स्वरूप में बने है ,गर्भगृह में गंगा की आभुषण युक्त मूर्ति है। गंगा मंदिर के समीप ही भैरव मंदिर है ।

गंगोत्री एक खुबसुरत स्थान  है सर्दियों में यह बर्फ से ढका रहता है विदेशी इसे बहुत पसन्द करते है विदेशियों में यह ट्रेंकिग के लिए भी लोकप्रिय है गौमुख व उससे आगे भी ट्रेकिग  पर जाते है । तीर्थ यात्रा के अलावा यह एक प्रमुख पर्यटक स्थल है   यह शहर दो भागों में बटा है भागीरथी के दोनो किनारों पर बसा है ।
1808 में जब गंगा स्रोत की खोज का कार्य ईस्ट इंडिया कम्पनी के सर्वेयर  जनरल के  आदेश पर कैप्टन रीपर तथा ले0 वेब को सौपा गया था । रीपर ने तब भटवाडी तक यात्रा की थी परन्तु वकिट मार्ग होने के कारण आगे नही बढ पाया वह लिखता है कि हिन्दु धर्म में गंगोत्री की यात्रा एक महान कार्य बतायी जाती है,1816 में उत्तराखण्ड पर ईस्ट इंडिया कम्पनी का अधिपत्य होते समय हिमाचल जौनसार ,यमुनोत्री होते हुए गंगोत्री पहुंचा था उसने द हिमाला माउन्टेन पृ0479 में लिखा — “हम इस समय विशव के विलक्षण हिमाला के मध्य में शायद सर्वाधिक उबड-खाबड गिरि श्रृंगो के मध्य में खडे भारत की पवित्रतम नदी को निहार रहे थे ।हिमालय के तीर्थो में सर्वाधिक पवित्र इस तीर्थ की विराट नीरवता,स्तब्धता और एकान्तिकता हमारे मस्तिष्क  में अवर्णीय अनूभूति का संचार कर रही थी।”

गंगोत्री मंदिर के निकट ही भागीरथी एक फलांग आगे पश्चिम दिशा में विशाल  में चट्टानों को चीरती हई एक चट्टानी गर्त में भंयकर वेग व गर्जना से प्रताप बनाती हुई  गिरती है । इस गौरी कुण्ड कहते है ।
भागीरथी शिला से नीचे नहाने के लिए गर्म जल का प्राकृतिक स्रोत है जिसे ब्रहमकुण्ड कहा जाता है।
प्राकृतिक दृशयों से भरपुर गंगोत्री यात्रा का अलग ही रोमांच है भागीरथी शिला ,सुरजकुण्ड भी  देखने  लायक है।  यदि पैदल यात्रा का शौक रखते हो तो गौमुख जाना न भूले यात्रा मार्ग के लिए घोडे व खच्चर भी उपलब्ध रहते है ।

चेतना त्यागी

( सहसंपादक )

 

Mysticpowernews

मिस्टिक पावर (dharmik news) एक प्रयास है धार्मिक पत्रकारिता(religious stories) में ,जिसे आगे अनेक लक्ष्य प्राप्त करने हैं सर्वप्रथम पत्रिका फिर वेब न्यूज़ और अगला लक्ष्य सेटेलाइट चैनेल ............जिसके द्वारा सनातन संस्कृति(hindu dharm,sanatan dharma) का प्रसार किया जा सके और देश विदेश के सभी विद्वानों को एक मंच दिए जा सके | राष्ट्रीय और धार्मिक समस्याओं(hindu facts,hindu mythology) का विश्लेषण और उपाय करने का एक समग्र प्रयास किया जा सके |

Mysticpowernews has 574 posts and counting. See all posts by Mysticpowernews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *