कैसे प्राप्त होती है गुरु कृपा से मोक्ष प्राप्ति

  कैसे प्राप्त होती है गुरु कृपा से मोक्ष प्राप्ति

कर्मयोग, भक्तियोग, ज्ञानयोग आदि किसी भी मार्ग से साधना करने पर भी बिना गुरुकृपा के व्यक्ति को ईश्‍वर प्राप्ति होना असंभव है । इसीलिए कहा जाता है, गुरुकृपा हि केवलं शिष्यपरममङ्गलम् ।, अर्थात शिष्य का परममंगल अर्थात मोक्षप्राप्ति, उसे केवल गुरुकृपा से ही हो सकती है ।  गुरु कृपा के माध्यम से ईश्‍वर प्राप्ति की दिशा में अग्रसर होने को ही गुरु कृपा योग कहते हैं । गुरु कृपा योग की विशेषता यह है कि यह सभी साधना मार्गों को समाहित करने वाला ईश्‍वर प्राप्ति का सरल मार्ग है ।

विभिन्न योग मार्गों से साधना करने में अनेक वर्ष व्यर्थ न गंवाकर अर्थात अन्य समस्त मार्गों को छोडकर किस प्रकार शीघ्र गुरुकृपा प्राप्त की जा सकती है, यह गुरु कृपा योग सिखाता है ।

गुरुकृपा होने के लिए गुरु प्राप्ति होना आवश्यक है । गुरु कृपा तथा गुरु प्राप्ति हेतु की जाने वाली साधना ही गुरु कृपा योगानुसार साधना है । गुरुकृपा योगानुसार साधना के विषय में सर्वांग से और व्यापक दिशा दर्शन प्रस्तुत लेख माला में किया है । इस पहले लेख में हम प्राणिमात्र के जीवन का उद्देश्य, विज्ञान की मर्यादा और अध्यात्म का महत्त्व, गुरुकृपा योगानुसार की जाने वाली साधना के सिद्धांत का विवेचन देखेंगे ।

१.  प्राणिमात्र के जीवन का उद्देश्य – आनंदप्राप्ति

    मनुष्य ही नहीं, प्रत्येक प्राणिमात्र जन्म से अंतिम श्‍वास तक, अविरत सुख प्राप्ति होने हेतु संघर्षरत रहता है । सर्वोच्च एवं निरंतर प्राप्त होनेवाला सुख ही आनंद कहलाता है । संक्षेप में, आनंदप्राप्ति ही प्राणिमात्र के जीवन का एकमात्र उद्देश्य है । हम जीवन में अनेक विषय सीखते हैं; परंतु आनंद कैसे प्राप्त करें, यह नहीं सीखते । इस जगत में आनंदमय केवल ईश्‍वरीयतत्त्व है । अर्थात आनंदप्राप्ति के लिए ईश्‍वरप्राप्ति करना आवश्यक है ।

 

२.  प्रत्यक्ष जीवन, विज्ञान की मर्यादा एवं अध्यात्म का महत्त्व

प्रत्येक के जीवन में कुछ प्रासंगिक घटनाएं घटित होती हैं । उदाहरणार्थ हमारे किसी निकटतम व्यक्ति की अकाल मृत्यु हो जाती है; किसी का विवाह ही नहीं होता; किसी के बच्चे ही नहीं होते; बच्चे हुए भी तो केवल बेटियां होती हैं; किसी को चाकरी (नौकरी) नहीं मिलती; किसी का व्यवसाय नहीं चलता… कितना भी प्रयास करें असफलता ही मिलती है । ऐसा क्यों होता है, यह विज्ञान नहीं बता सकता । इस प्रश्‍न का उत्तर अथवा इन घटनाओं की तीव्रता कैसे न्यून की जाए, यह भी केवल अध्यात्मशास्त्र ही सिखाता है ।

३.  साधना का अर्थ क्या है ?

अध्यात्मशास्त्र के दो भाग हैं – एक है सैद्धांतिक भाग । गीता, रामचरितमानस, ज्ञानेश्‍वरी, दासबोध इत्यादि ग्रंथों का अभ्यास अध्यात्म का सैद्धांतिक भाग है । दूसरा है प्रायोगिक भाग । इसमें शरीर, मन एवं बुद्धि से कुछ न कुछ कृत्य करना पडता है । इस प्रायोगिक भाग को ही साधना कहते हैं ।

४.  गुरु

४ अ. गुरु की आवश्यकता

१. अकेले साधना कर अपने बल पर ईश्‍वरप्राप्ति करना अत्यधिक कठिन होता है । इसकी अपेक्षा आध्यात्मिक क्षेत्र के किसी अधिकारी व्यक्ति की, अर्थात गुरु अथवा संत की कृपा प्राप्त कर लें, तो ईश्‍वरप्राप्ति का ध्येय शीघ्र साध्य होता है । उन्हीं की कृपा प्राप्त करने का प्रयत्न करना चाहिए । इसीलिए कहा गया है, ये तन विष की बेलरी, गुरु अमृत की खान । सीस कटाय गुरु मिले, तो भी सस्ता जान ॥ अर्थात गुरुप्राप्ति होना आवश्यक है ।

२. शिष्य की आध्यात्मिक उन्नति हो, इसलिए उसका अज्ञान नष्ट करने हेतु गुरु उसे साधना बताकर उससे वह साधना करवाते हैं एवं अनुभूति भी प्रदान करते हैं । गुरु का ध्यान शिष्य के ऐहिक सुख की ओर नहीं होता (क्योंकि वह प्रारब्धानुसार होता है), अपितु केवल उसकी आध्यात्मिक उन्नति की ओर होता है ।

४आ. गुरुतत्त्व एक ही है !

गुरु केवल स्थूलदेह नहीं है । गुरु की सूक्ष्मदेह (मन) एवं कारणदेह (बुद्धि) भी नहीं होती, इसलिए वे विश्‍वमन एवं विश्‍वबुद्धि से एकरूप हो चुके होते हैं । अर्थात सर्व गुरुओं के मन एवं बुद्धि विश्‍वमन तथा विश्‍वबुद्धि होते हैं, इसलिए वे एक ही होते हैं । इसलिए सर्व गुरु बाह्यतः स्थूलदेह से भले ही भिन्न हों, तब भी आंतरिक रूप से वे एक ही हैं ।

५. गुरुकृपायोग

५ अ. अर्थ

कृपा शब्द कृप् धातु से बना है । कृप् अर्थात दया करना तथा कृपा अर्थात दया, करुणा, अनुग्रह अथवा प्रसाद । गुरुकृपा के माध्यम से जीव का शिव से जुडना, अर्थात जीवको ईश्‍वरप्राप्ति होना, इसे गुरुकृपायोग कहते हैं ।

५ आ. महत्त्व

विभिन्न योगमार्गों से साधना करने में अनेक वर्ष व्यर्थ न गंवाकर अर्थात अन्य समस्त मार्गों को छोडकर किसप्रकार शीघ्र गुरुकृपा प्राप्त की जा सकती है, यह गुरुकृपायोग सिखाता है । इस कारण स्वाभाविक ही इस मार्गद्वारा आध्यात्मिक उन्नति शीघ्र होती है ।

५ इ. विशेषताएं

१. गुरुकृपायोगानुसार साधना करते समय प्रतिभा शीघ्र जागृत होना अर्थात उचित एवं अनुचित के संबंध में ईश्‍वरीय मार्गदर्शन प्राप्त होना ।

गुरुकृपायोगानुसार साधना करते समय उचित मार्गानुसार साधना आरंभ होने के कारण साधक को नई-नई बातें सूझनी आरंभ हो जाती हैं, अर्थात उसकी प्रतिभाशक्ति जागृत होनी आरंभ हो जाती है । इसके द्वारा ईश्‍वर उसे उचितअनुचित क्या है, इसके विषयमें मार्गदर्शन करते हैं । कर्म, ध्यान एवं ज्ञानयोग समान अन्य साधनामार्गोंमें अत्यधिक साधना होने के उपरांत ही प्रतिभा जागृत होने का स्तर आता है । गुरुकृपायोगानुसार साधना करते समय जागृत हुई प्रतिभा को बनाए रखना गुरुकृपा एवं साधना हेतु स्वयं के प्रयत्नों पर निर्भर रहता है ।

५ ई. गुरुकृपा कैसे कार्य करती है ?

कोई कार्य हो रहा हो, तो उसमें कार्यरत विविध घटकों द्वारा यह निश्‍चित होता है वह कार्य कितने प्रमाण में सफल होगा । स्थूल की अपेक्षा सूक्ष्म अधिक सामर्थ्यवान होता है, जैसे अणुध्वम (अणुबम) से परमाणुध्वम (परमाणुबम) अधिक प्रभावशाली होता है । गुरुकृपा स्थूल, स्थूल और सूक्ष्म, सूक्ष्मतर, सूक्ष्मतम और अस्तित्व (अति सूक्ष्मतम) इन विविध चरण अनुसार/स्तरों पर कार्य करती है । कोई बात हो जाए केवल इतना ही विचार किसी आध्यात्मिक दृष्टि से उन्नत के मन में आया, तो वह बात सत्य हो जाती है । इससे अधिक उन्हें कुछ नहीं करना पडता है । शिष्य की  उन्नति हो, ऐसा संकल्प गुरु के मन में आने के उपरांत ही शिष्य की खरी उन्नति होती है । इसी को गुरुकृपा कहते हैं । उसके बिना शिष्य की उन्नति नहीं होती । अंतिम चरण में गुरु के केवल संकल्प से, सान्निध्य में अथवा सत्संग में शिष्य की साधना और उन्नति अपनेआप होती है ।

६. गुरुकृपा निरंतर होने के लिए गुरुकृपायोगानुसार साधना आवश्यक

कार्यालयमें काम करनेवाले कर्मचारीको यदि पदोन्नति चाहिए हो, तो उसे अपने वरिष्ठों की अपेक्षा अनुसार करना पडता है । उसी प्रकार गुरुप्राप्ति एवं गुरुकृपा हेतु गुरु का मन जीतना आवश्यक है । अखंड गुरुकृपा प्राप्त करने हेतु गुरु का मन निरंतर जीतना आवश्यक है । और किसी भी योगमार्गानुसार साधना करें, तब भी यह सत्य ही है । गुरु अथवा संतोंको सर्वाधिक प्रिय साधना ही है । अर्थात् गुरुप्राप्ति एवं अखंड गुरुकृपा हेतु तीव्र साधना निरंतर करते रहना ही आवश्यक है । यही गुरुकृपायोगानुसार साधना है ।

७.  गुरुकृपायोगानुसार करने योग्य साधना का नियम

७ अ. जितने व्यक्ति उतनी प्रकृतियां, उतने साधनामार्ग

गुरुकृपायोगानुसार की जानेवाली साधना का एक ही नियम है और वह है  जितने व्यक्ति उतनी प्रकृतियां, उतने साधनामार्ग । पृथ्वी की जनसंख्या ७०० करोड से अधिक है, इसलिए ईश्‍वरप्राप्ति के ७०० करोड से अधिक मार्ग हैं । ७०० करोड में से कोई भी दो व्यक्ति एक समान नहीं होते । प्रत्येक व्यक्ति के शरीर, मन, रुचि-अरुचि, गुण-दोष, आशा-आकांक्षाएं, वासनाएं, सर्व भिन्न हैं; प्रत्येक की बुद्धि भिन्न है; संचित, प्रारब्ध भिन्न हैं, पृथ्वी, आप, तेज, वायु एवं आकाश, ये तत्त्व (मनुष्य इन पंचतत्त्वों से बना है ।) भिन्न हैं; सत्त्व, रज, तम, ये त्रिगुण भिन्न-भिन्न हैं । संक्षेपमें, प्रत्येक व्यक्ति की प्रकृति एवं पात्रता भिन्न है । इसीलिए ईश्‍वरप्राप्ति के साधनामार्ग भी अनेक हैं । अपनी प्रकृति तथा पात्रता के अनुरूप साधना करने पर शीघ्र ईश्‍वरप्राप्ति होने में सहायता मिलती है ।

  { गुरु पूर्णिमा पर सनातन संस्था की प्रस्तुति }

सुन्दर कुमार ( प्रधान संपादक ) 

Mysticpowernews

मिस्टिक पावर (dharmik news) एक प्रयास है धार्मिक पत्रकारिता(religious stories) में ,जिसे आगे अनेक लक्ष्य प्राप्त करने हैं सर्वप्रथम पत्रिका फिर वेब न्यूज़ और अगला लक्ष्य सेटेलाइट चैनेल ............जिसके द्वारा सनातन संस्कृति(hindu dharm,sanatan dharma) का प्रसार किया जा सके और देश विदेश के सभी विद्वानों को एक मंच दिए जा सके | राष्ट्रीय और धार्मिक समस्याओं(hindu facts,hindu mythology) का विश्लेषण और उपाय करने का एक समग्र प्रयास किया जा सके |

Mysticpowernews has 574 posts and counting. See all posts by Mysticpowernews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *