त्रिपुरा मूर्ति विवाद क़ानून के नजरिये से

त्रिपुरा में लेनिन मूर्ति तोड़ने के कानूनी पक्ष-पुलिस अधिकारी हमेशा कानून की किताब लेकर नहीं चलते। सर्वमान्य सिद्धान्त है-Take action, sections will follow. घटनास्थल पर जो नैतिक रूप से ठीक समझा उसके अनुसार काम किया। थाना आकर 1 घण्टे के अन्दर खोजना है कि अपराध की कौन सी धारायें लगेगी। वकीलों की तरह महीने का समय नहीं मिलता। सरकार ने राजनैतिक हंगामा पर आदेश दिया कि सख्त कार्यवाही की जाय। पर किस कानून से, यह वर्षों तक पुस्तकालय में खोजने पर नहीँ मिलेगा। समाज में व्यवस्था हर परिस्थिति में रखना है।

इसमें कई कानूनी कठिनाई आती है। भारतीय दण्ड विधान में मूर्ति तोड़ने के लिए कोई धारा नहीं है। यह mischief कहा जाता है जो बहुत छोटा अपराध है। आग या विस्फोटक द्वारा कोई चीज नष्ट करना विशेष अपराध बनता है।

फिर यह देखना है कि किसकी सम्पत्ति नष्ट हुई-संस्था या दल, सरकार या व्यक्ति। किसी ने अपने घर या जमीन पर नही मूर्ति लगाई-ऐसी भक्ति कभी देखने में नहीँ आयी। कम्युनिस्ट पार्टी अपने पैसे से ये सब काम नहीं करती-वह तो सर्वहारा का एकाधिकार बना कर सभी की सम्पत्ति दखल करती है। यदि सरकारी पैसे से बना था, तो उसके लिए कब बजट पास हुआ था? यदि बजट द्वारा सदन की अनुमति नहीँ ली गयी तो यह सरकारी सम्पत्ति के गबन का मामला है।

अगला प्रश्न है-मूर्ति तोड़ने का अपराधी कौन? राजनीतिक विरोध के कारण भाजपा को दोषी कह रहे हैं? पर 1 मास पूर्व तक तो भाजपा के लोग त्रिपुरा में मात्र 1.5% थे। ये तोड़ने वाले तो पिछले 25 वर्षों से कम्युनिस्ट ही थे जो आतंक से मुक्ति पाने की खुशी मना रहे हैं।

मूर्ति तोड़ने का सम्बन्ध धार्मिक भावनाओं से सम्बन्धित है। विश्व में केवल सनातनी हिन्दुओं को ही मूर्ति पूजक रूप में निन्दा कर 25 करोड़ से अधिक हिन्दुओं की हत्या तथा लाखों मन्दिरों को तोड़ना मुस्लिम तथा इसाई समुदाय द्वारा हुआ है। उसमें एक पर भी जैसे राम जन्मभूमि मन्दिर पर वे खेद प्रकट करने या वापस करने के लिए राजी नहीं हैं। जो स्वयं मूर्ति पूजा के विरोधी हैं, उनकी मूर्तियों को तोड़ना उनके धर्मं पालन में सहायता कही जा सकती है, धर्म पर आघात नहीँ। कम्युनिस्ट तो मूर्ति के अतिरिक्त धर्म को भी समाज को बहकाने वाला अफीम मानते हैं। यदि वे सचमुच मार्क्स या लेनिन के अनुयायी हैं तो उनको अपने सही मार्ग पर लाने का आभारी होना चाहिये।

अरुण उपाध्याय 

सामाजिक चिन्तक एवं धर्म शास्त्र विशेषज्ञ 

Mysticpowernews

मिस्टिक पावर (dharmik news) एक प्रयास है धार्मिक पत्रकारिता(religious stories) में ,जिसे आगे अनेक लक्ष्य प्राप्त करने हैं सर्वप्रथम पत्रिका फिर वेब न्यूज़ और अगला लक्ष्य सेटेलाइट चैनेल ............जिसके द्वारा सनातन संस्कृति(hindu dharm,sanatan dharma) का प्रसार किया जा सके और देश विदेश के सभी विद्वानों को एक मंच दिए जा सके | राष्ट्रीय और धार्मिक समस्याओं(hindu facts,hindu mythology) का विश्लेषण और उपाय करने का एक समग्र प्रयास किया जा सके |

Mysticpowernews has 574 posts and counting. See all posts by Mysticpowernews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *