बुद्धिजीवियों के दिमाग व सांप्रदायिक लोग !!

1984 का दंगा सिर्फ़ 2002 के दंगे से ही नहीं, आज़ाद भारत के किसी भी दूसरे दंगे से अधिक बड़ाऔर वीभत्स था। इसका ठीक से आकलन नहीं हो पाने की कई वजहें रहीं!!

मानसिक और वैचारिक तौर पर दिवालिया हो चुके जिन लोगों को 1984 के दंगों में 3 दिन के भीतर 3,000 लोगों का मार दिया जाना भीड़ के उन्माद की सामान्य घटना नज़र आती है, उन्हीं लोगों ने, गुजरात दंगे तो छोड़िए, उन्मादी भीड़ द्वारा दादरी में सिर्फ़ एक व्यक्ति की हत्या को देश में असहिष्णुता का महा-विस्फोट करार दिया था।

दरअसल सेक्युलरिज़्म की चिप्पी माथे पर चिपकाए ये वे सांप्रदायिक लोग हैं, जो इंसानी जानों की कीमत उनके संप्रदाय और ध्रुवीकृत होकर उनके वोट करने की प्रवृत्ति के आधार पर लगाते हैं। इसीलिए इन शातिर लोगों को 1984 में मारे गए लोगों की जान 2002 में मारे गए लोगोंकी जान से सस्ती लगती है, जबकि सचाई यह है कि 1984 का दंगा सिर्फ़ 2002 के दंगे से ही नहीं, आज़ाद भारत के किसी भीदूसरे दंगे से अधिक बड़ाऔर वीभत्स था। इसका ठीक से आकलन नहीं हो पाने की कई वजहेंरहीं। मसलन,

1.यह दंगा एक ऐसे संप्रदाय के ख़िलाफ़ था, जिसका देश की आबादी में हिस्सा मात्र पौने दो प्रतिशत है और दुनिया में उसका  अस्तित्व इसी अल्प भारतीय आबादी पर टिका है।

2.यह दंगा एक ऐसे संप्रदाय के ख़िलाफ़ था, जिसकी पंजाब जैसे छोटे राज्य से बाहर राजनीति को प्रभावित करने की हैसियत नहीं थी।

3.यह दंगा एक ऐसे संप्रदाय के ख़िलाफ़ था, जिसके वोट के बिना भी इस देश में हत्यारी प्रवृत्ति के लोग ठाट से राज कर सकते हैं।

4.जब यह दंगा हुआ, तब भारत में मीडिया इतना पावरफुल नहीं था कि वह राजनीतिऔर समाज की सोचको पल-पल प्रभावितकर सके। दृश्य-श्रव्य मीडिया का अस्तित्व न के बराबर था। प्रिंट मीडिया का प्रसार भी इतना नहीं था। साक्षरता और संपन्नता कम होने से उनकी रीडरशिप भी कम थी। सोशल मीडिया तो था ही नहीं। देश की बड़ी आबादी के लिए सिर्फ़ सरकारी रेडियो था, जिसके ज़रिए सूचनाएं सेंसर होकर पहुंचती थीं।

5.जब यह दंगा हुआ, तब विपक्ष काफी कमज़ोर था और कांग्रेस की जड़ें इतनी गहरी थीं कि उसके लोग पब्लिक को जो समझा देते थे, उसे ही पुराण, कुरान और बाइबिल समझ लिया जाता था।

6.जब यह दंगा हुआ, तब देश मेंबुद्धिजीवियों के एक बड़े समूह की आत्मा कांग्रेस के पास बंधक थी। बचे- खुचे बुद्धिजीवियों के दिमाग से भी शायद ज़ुल्मी इमरजेंसी का ख़ौफ़ उतरा न था।

7.इंदिरा गांधी की हत्या से उपजी सहानुभूतिकी लहर पर सवार होकर कांग्रेस ने लोकसभा चुनावों में 533 मेंसे 404 सीटेंजीतलीं। जब सरकार इतनी ताकतवर हो, तो किसकी हिम्मत थी उसके सामने तनकर खड़े होने की?

नतीजा यह हुआ कि दुनिया के सबसे बड़े धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्रकी राजधानी में एक अल्प आबादी वाले संप्रदाय के ख़िलाफ़ इतने भीषण नरसंहार के बाद उतना भी शोर नहीं हुआ, जितना हम सबने दादरी में सिर्फ़ एक व्यक्ति की हत्या के बाद सुना। खुशवंतसिंह और अमृता प्रीतम जैसे कतिपय सिख लेखकों को छोड़कर हिन्दू और मुस्लिम बिरादरीके ज्यादातर “धर्मनिरपेक्ष”, “प्रगतिशील” और “क्रांतिकारी” लेखक उन दिनों “सहिष्णुता” का अभ्यास कर रहे थे।

सुन्दर कुमार ( प्रधान संपादक )

Mysticpowernews

मिस्टिक पावर (dharmik news) एक प्रयास है धार्मिक पत्रकारिता(religious stories) में ,जिसे आगे अनेक लक्ष्य प्राप्त करने हैं सर्वप्रथम पत्रिका फिर वेब न्यूज़ और अगला लक्ष्य सेटेलाइट चैनेल ............जिसके द्वारा सनातन संस्कृति(hindu dharm,sanatan dharma) का प्रसार किया जा सके और देश विदेश के सभी विद्वानों को एक मंच दिए जा सके | राष्ट्रीय और धार्मिक समस्याओं(hindu facts,hindu mythology) का विश्लेषण और उपाय करने का एक समग्र प्रयास किया जा सके |

Mysticpowernews has 574 posts and counting. See all posts by Mysticpowernews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *