राष्ट्रीय हिन्दू आंदोलन में राष्ट्रीय गोरक्षा आयोग बनाने की साधु-संतो की मांग !

राष्ट्रीय हिन्दू आंदोलन में राष्ट्रीय गोरक्षा आयोग बनाने की साधु-संतो की मांग !

प्रयागराज – कुम्भ में साधू-संत एवं हिन्दू संगठनों ने एकत्रित आकर गो, गंगा और देवालय की रक्षा हेतु काली मार्ग-संगम लोअर मार्ग के चौराहे पर राष्ट्रीय हिन्दू आंदोलन किया । इस में संपूर्ण भारत में गोवंश की रक्षा के लिए राष्ट्रीय गोरक्षा आयोग बने । देवनदी गंगाजी की रक्षा के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रस्तावित ‘600 कि.मी. लंबा गंगा एक्सप्रेस-वे’ योजना निरस्त हो तथा हिन्दुओं के मंदिरों के शासकीय अधिग्रहण के लिए बनाया गया ‘दी हिन्दू रिलीजियस चैरिटेबल एंडोमेन्ट ऐक्ट 1951’ को हटाने की प्रमुख मांग केंद्र सरकार सें की गई । इस बीच संतों द्वारा ‘जयतु जयतु हिन्दुराष्ट्रम्’ का नारा देते हुए संतों ने भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करने की बात कही ।
हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा आयोजित राष्ट्रीय हिन्दू आंदोलन में साधु-संत, श्रद्धालु, धार्मिक एवं हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता सम्मेलित हुऐ थे । इस में गोंदिया के महंत रामग्यानीदासजी महाराज, अयोध्या तपस्वी छावनी के महंत परमहंसदासजी महाराज, श्री हिन्दू तख्त पंजाब के स्वामी चैतन्यगिरी महाराज, वारकरी संप्रदाय महाराष्ट्र के हिन्दूभूषण श्याम महाराज, जुना अखाडे के अवधेशगिरीजी महाराज, नाथ संप्रदाय के रामस्वरूपनाथ महाराज, महानिवार्णी अखाडे के दिव्येश्‍वर चैतन्य महाराज, जम्मू-कश्मीर के श्री महंत राजेंद्रगिरी महाराज, शिवसेना के प्रयागराज शहरप्रमुख श्री. शिवविशाल गुप्ता, हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक सद्गुरु (डॉ.) चारुदत्त पिंगलेजी, सनातन संस्था के पू. नीलेश सिंगबाळ और सनातन संस्था के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस का सहभाग था ।
अयोध्या कें महंत परमहंसदास महाराज ने कहा की, विश्‍व में एक भी हिन्दू राष्ट्र नही है । इसलिए सनातन धर्मी भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करना चाहिए ।
गोंदिया से आये महंत रामग्यानीदासजी महाराज ने कहा की, केंद्र सरकार ने बजेट में ‘राष्ट्रीय कामधेनू आयोग’ स्थापित करने की घोषणा की है । मात्र यह आयोग केवल गोपालन करनेवाले व्यक्तीओं लाभदायी है । इस सें संपूर्ण गोवंश हत्या बंदी नही होगी । इसलिए राष्ट्रीय गोरक्षा आयोग स्थापित होना चाहिए ।
वहीँ प्रदर्शन में शामिल हिन्दू जनजागृति समिति के सद्गुरु (डॉ.) चारुदत्त पिंगले ने कहा, केंद्र सरकार के ‘दी हिन्दू रिलीजियस चैरिटेबल एंडोमेन्ट ऐक्ट 1951’ के कारण उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक सहित अनेक राज्यों के मंदिरों का सरकार द्वारा अधिग्रहण किया गया है । इन मंदिरों की दान राशि सरकारी कोष में जमा हो रही है । यह दान राशि भ्रष्टाचार का साधन बन रही है । विश्‍व के कोई भी लोकतांत्रिक तथा सेक्युलर देश में धार्मिक संस्थाओं का सरकार द्वारा नियंत्रण नही किया जाता । मात्र भारत में धार्मिक स्वतंत्रतता के विरुद्ध आचरण हो रहा है । मंदिरों का अधिग्रहण करने वाली सरकार मस्जिद एवं चर्च को नियंत्रण में नहीं लेती है । यह धार्मिक भेदभाव है और समानता के तत्त्व के विरोध में है ।
सनातन संस्था के प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस ने कहा, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 600 कि.मी. लंबा ‘गंगा एक्सप्रेस-वे’ बनाने की घोषणा की है । मात्र इलाहाबाद हायकोर्ट ने पर्यावरण के कारण वर्ष 2007 में तत्कालिन मायावती सरकार की 1100 कि.मी. लंबा ‘गंगा एक्स्प्रेस-वे’ परियोजना को स्थगित किया था । अब की सरकारने भी ‘गंगा एक्सप्रेस-वे’ की परियोजना के कारण गंगा नदी, पर्यावरण तथा नागरी जीवन को किसी भी प्रकार से आहात न होने की निश्‍चिती देनी आवश्यक है । अन्यथा यह संपूर्ण परियोजना निरस्त करनी चाहिए ।
आंदोलन के बाद हिन्दू संगठन एवं संतो द्वारा प्रयागराज में कुम्भ मेला प्राधिकारण के अतिरिक्त जिलाधिकारी श्री. दयानंद प्रसाद की प्रत्यक्ष भेट कर उन्हे गो, गंगा एवं देवालय रक्षा हेतु तीन ज्ञापन दिये गये ।
सुन्दर कुमार ( प्रधान सम्पादक )

Mysticpowernews

मिस्टिक पावर (dharmik news) एक प्रयास है धार्मिक पत्रकारिता(religious stories) में ,जिसे आगे अनेक लक्ष्य प्राप्त करने हैं सर्वप्रथम पत्रिका फिर वेब न्यूज़ और अगला लक्ष्य सेटेलाइट चैनेल ............जिसके द्वारा सनातन संस्कृति(hindu dharm,sanatan dharma) का प्रसार किया जा सके और देश विदेश के सभी विद्वानों को एक मंच दिए जा सके | राष्ट्रीय और धार्मिक समस्याओं(hindu facts,hindu mythology) का विश्लेषण और उपाय करने का एक समग्र प्रयास किया जा सके |

Mysticpowernews has 574 posts and counting. See all posts by Mysticpowernews