रुद्रयामल तंत्र -मन्त्रदीक्षा तत्व

मन्त्रदीक्षा विचार 

भैरवी ने कहा — हे प्रभो ! यदि भाग्यवश महाविद्या का अथवा त्रिशक्ति का सिद्ध मन्त्र कहीं से मिल जाय तो उस कुल से निश्चित रूप से उस मन्त्र को ग्रहण कर लेना चाहिए । पिता और मातामह को छोड़कर सर्वत्र गुरु का विचार करना चाहिए । प्रमाद से अथवा अज्ञान से बिना विचारे गुरु से मन्त्र लेने वाला प्रायश्चित्त कर पुनः दीक्षा ग्रहण करें ॥९४ – ९६॥

सावित्री मन्त्र का एक लाख जप करे , अथवा जगत्पति विष्णु के मन्त्र का १ लाख जप करे अथवा प्रणव का १ लाख जप करे । यही उसका प्रायश्चित्त हैं । हे महादेव ! यदि इतने जप करने की सामर्थ्य न हो तो १० हजार मन्त्र गायत्री का जप कर लेवे । क्योंकि दश सहस्त्र मात्र जपी गई गायत्री सभी कल्मषों को नष्ट कर देने वाली है ॥९६ – ९७॥

गायत्री सभी छन्दों की जननी हैं । यह पापराशिरूपी रुई को जलाने के लिए अग्नि हैं । किं बहुना , मेरी देदीप्यमान मूर्ति हैं , उनमें पशुभाव ( जीवभाव ) नहीं हैं । फलोद‍भव प्रकरण रुप निशा में ब्रह्मदेव गायत्री का पाठ करते हैं । हे देव ! यदि भाग्यवश सिद्धमन्त्र और गुरु मिल जावें तो उसी समय अष्ट ऐश्वैर्य की प्राप्ति के लिए उनसे गायत्री की दीक्षा ले लेनी चाहिए ॥९७ – १००॥

ऐसे तो पिता के द्वारा प्रदत्त मन्त्र निर्बीज होता है , किन्तु शिव मन्त्र और शाक्त मन्त्र में वह दोषप्रद नहीं होता । अतः कुलीन तथा कुलपण्डितों को ज्येष्ठ पुत्रा के लिए उसे देने में कोई बाधा नहीं है । कुलीन इन्द्रियों का दमन करने वाले शिष्य को कुलेश्वर महामन्त्र देने से उसी समय मुक्ति प्राप्त हो जाती है यह सत्य है यह सत्य है इसमें संशय नहीं ॥१०१ – १०२॥

कनिष्ठ पुत्र , शत्रु – सहोदर , बैरी के पक्ष में रहने वाला , मातामह ( नाना ), पिता , यति , वनवासी , आश्रमधर्मरहित , दुष्ट का साथ करने वाले , अपने कुल ( शाक्त सम्प्रदाय ) का त्याग करने वाले इतने को छोड़कर अन्य शिष्यों को दीक्षा प्रदान करना चाहिए ॥१०३ – १०४॥

अन्यथा विरोधी को मन्त्र देने से कामना और भोग दोनों का ही नाश होता है । हे भैरव ! मेरा तो विचार है कि सिद्धमन्त्र दुष्कुल में उत्पन्न लोगों से भी ग्रहण कर लेना चाहिए । ( भक्ति ) भावना वाले , प्रच्छन्नरूप वाले अथवा माङ्रलिक रुप धारण करने वाले सदगुरु से दीक्षा लेने वाला अष्टैश्वर्य पर विजय प्राप्त कर लेता है ॥१०५ – १०६॥

स्वप्न में मन्त्र की प्राप्ति होने पर गुरु और शिष्य का कोई नियम नहीं रहता । स्वप्न में अथवा स्त्री के द्वारा प्राप्त मन्त्र संस्कार से ही शुद्ध हो जाते हैं ॥१०७॥

साध्वी , सदाचार संपन्ना , गुरुभक्ता , इन्द्रियों को अपने वश में रखने वाली , सभी मन्त्रों के अर्थतत्त्व को जानने वाली , सुशीला , पूजा में निरत , सर्वलक्षण संयुक्त , जप करने वाली , कमलनयना , रत्नालङ्कार संयुक्ता सुन्दरी को भुवमोहिनी , शान्ता , कुलीना , कुलजा , चन्द्रमुखी , सर्ववृद्धि वाली , अनन्तगुणसम्पन्ना , रुद्रत्व प्रदान करने वाली प्रिया , गुरुरुपा , मुक्तिदात्री तथा शिवज्ञान क निरुपण करने वाली स्त्री भी गुरु बनाने के योग्य़ है , किन्तु विधवा परिवर्जित है ॥१०८ – १११॥

स्त्री से ली गई दीक्षा शुभावह होती है । उसके दिये गये मन्त्र में भी आठ गुनी शक्ति आती है । पुत्रिणी विधवा से भी मन्त्रदीक्षा ली जा सकती है । किन्तु पुत्रपतिहीना विधवा की दीक्षा ऋणकारिणी होती है । यदि सिद्धि मन्त्र हो तो विधवा के मुख से भी उसे ले लेना चाहिए । उससे केवल सुफल प्राप्त होता है । किन्तु माता से ली गई मन्त्रदीक्षा आठ गुना फलदायिनी होती है ॥११२ – ११३॥

पुत्रवती और सती सधवा यदि अपनी इच्छा से सिद्धमन्त्र प्रदान करे तो भी अष्टगुण फल होता है । यदि माता ( गुरु परम्परा से प्राप्त ) स्वकीय मन्त्र अपने पुत्र को प्रदान करे तो उस पुत्र को आठों सिद्धियाँ प्राप्त हो जाती हैं । भक्ति मार्ग में संशय नहीं करना चाहिए । हे देव ! माता अपने पुत्र को मन्त्र दीक्षा दे यह समय तो बहुत दुर्लभ है ॥११४ – ११६॥

प्रथम भक्ति उसके बादा मुक्त प्राप्त कर ( इस प्रकार काल के अनुसार वेष बनाने वाला ) साधक सहस्त्र करोड़ विद्या के अर्थ को जान लेता हैं इसमें संशय नहीं । यदि माता स्वप्न में शुद्ध मन्त्र प्रदान करें । ऐसा साधक यदि पुनः किसी अन्य से दीक्षा ग्रहण करे तो वह दानवत्व प्राप्त करता है ॥११६ – ११८॥

यदि भाग्यवश माता ही मन्त्र देने के लिए उद्यत हो तो भी साधक को सिद्धि प्राप्त हो जाती है , उस समय केवल मन्त्र का विचार करना चाहिए । यदि श्री ललिता , काली अथवा महाविद्या के महामन्त्र का कोई स्वयं उपदेश कर दे तो गुरु का विचार नहीं करना चाहिए । ( स्वयं उपदिष्ट ) वह पुरुष सर्व प्रकार की सिद्धियों से युक्त हो कर एक संवत्सर में उनका दर्शन प्राप्त कर लेता है ॥११८ – १२०॥
डॉ. दीनदयाल मणि त्रिपाठी ( प्रबंध संपादक )

Mysticpowernews

मिस्टिक पावर (dharmik news) एक प्रयास है धार्मिक पत्रकारिता(religious stories) में ,जिसे आगे अनेक लक्ष्य प्राप्त करने हैं सर्वप्रथम पत्रिका फिर वेब न्यूज़ और अगला लक्ष्य सेटेलाइट चैनेल ............जिसके द्वारा सनातन संस्कृति(hindu dharm,sanatan dharma) का प्रसार किया जा सके और देश विदेश के सभी विद्वानों को एक मंच दिए जा सके | राष्ट्रीय और धार्मिक समस्याओं(hindu facts,hindu mythology) का विश्लेषण और उपाय करने का एक समग्र प्रयास किया जा सके |

Mysticpowernews has 574 posts and counting. See all posts by Mysticpowernews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *