विवादित हिन्दूविरोधी विज्ञापन पर पुलिस थाने में शिकायत

विवादित हिन्दूविरोधी विज्ञापन पर पुलिस थाने में शिकायत

रंगपंचमी निमित्त ‘हिन्दुस्थान यूनीलीवर’ कंपनी के उत्पाद ‘सर्फ एक्सेल’ का एक विज्ञापन प्रसारित किया है । इस विज्ञापन में हिन्दू त्यौहारों के निमित्त पुनः एक बार हेतुतः हिन्दुओं का अपमान किया गया है । इससे पूर्व भी इस कंपनी के अनेक विज्ञापनों में हिन्दुओं का, हिन्दुओं के श्रद्धास्थानों का अपमान किया गया है । इसलिए इस कंपनी के संचालकों पर भा.दं.सं. की धारा 295 अ और 153 अ के अनुसार अपराध प्रविष्ट किया जाए, पुनः विज्ञापनों के माध्यम से धार्मिक भेदभाव नहीं किया जाए, कठोर कार्यवाही की जाए और संबंधित विज्ञापनों पर त्वरित प्रतिबंध लगाया जाए, ऐसी मांग करते हुए इस कंपनी के कार्यकारी संचालकों के विरोध में हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से गोवा में श्री. चंद्रकांत (भाई) पंडित ने म्हापसा पुलिस थाने में तथा पंढरपुर (सोलापुर) में श्री. पुरुषोत्तम लंके ने पुलिस शिकायत की है । इस समय गोवा में श्री. जयेश थळी, हिन्दू जनजागृति समिति की श्रीमती राजश्री गडेकर, सनातन संस्था की श्रीमती शुभा सावंत उपस्थित थीं । पंढरपुर में हिन्दू महासभा के अध्यक्ष श्री. बाळकृष्ण डिंगरे, पेशवाई युवामंच के अध्यक्ष श्री. ओंकार कुलकर्णी, हिन्दू विधिज्ञ परिषद के अधिवक्ता नीलेश सांगोलकर और हिन्दू जनजागृति समिति के श्री. राजन बुणगे उपस्थित थे ।

ज्ञात रहे विगत दिनों आये इस विज्ञापन में ‘होली के दिन बच्चे रंग खेल रहे हैं तथा एक हिन्दू बच्ची साइकिल चलाते हुए वहां आती है तथा बच्चों को उस पर रंग फेंकने का आवाहन करती है । उनके रंग और पानी के गुब्बारे समाप्त होने तक वह वहां घूमती रहती है । उनके रंग और पानी के गुब्बारे समाप्त होने पर वह एक घर के सामने जाती है, उस घर से सफेद कुरता और पायजामा पहना हुआ एक छोटा मुसलमान लडका बाहर निकलता है । वह लडकी उससे कहती है कि बाहर आ जाओ, रंग समाप्त हो चुके हैं तथा उसे साइकिल पर बैठाकर मस्जिद के सामने ले जाकर छोड देती है । तब वह लडका कहता है, ‘मैं नमाज पढकर आता हूं ।’ उस समय वह लडकी अर्थात ‘पश्‍चात रंग गिरेंगे ।’ उस समय संदेश दिया जाता है कि ‘अपनेपन के रंग में अन्यों को रंगते समय दाग लग जाए, तो वे दाग अच्छे हैं ।’ इससे कंपनी को क्या संदेश देना है ? क्या रंगपंचमी के दिन हिन्दू समाज नमाज पठन के लिए जाने वाले मुसलमानों पर रंग उडाते हैं ? हिन्दू लडकी और मुसलमान लडका ऐसे पात्र दिखाकर क्या साध्य करना है ? हिन्दुओं की रंगपंचमी और मुसलमानों की नमाज का कोई संबंध है क्या ? प्रत्येक बार हिन्दू त्यौहारों के समय ही ऐसे विज्ञापन क्यों आते हैं, ऐसे अनेक प्रश्‍न इस निमित्त उपस्थित होते हैं । सोशल मीडिया के माध्यम से बडी मात्रा में इसका विरोध होकर भी इस कंपनी की ओर से इस संबंध में कोई प्रतिसाद नहीं मिला है, इससे यह स्पष्ट होता है कि इस कंपनी को हिन्दुओं की धर्मभावनाओं का कितना मूल्य है ।

‘हिन्दुस्थान यूनीलीवर’ का यह पहला ही विवादित विज्ञापन नहीं है । इससे पूर्व एक विज्ञापन में कुंभ मेले में अपने वृद्ध माता-पिता को छोड देने के लिए आते हैं, इस आशय का ‘रेड लेबल’ चाय का विज्ञापन हाल ही प्रसारित किया था । इससे पूर्व गणेश चतुर्थी की अवधि में मुसलमान गणेशमूर्ति विक्रेता और मूर्ति लेने के लिए आए हुए हिन्दू व्यक्ति का विवादित विज्ञापन प्रसारित किया था । संक्षेप में दिखाई देता है कि ‘हिन्दुस्थान यूनीलीवर’ने हिन्दूविरोधी विज्ञापनों की श्रृंखला ही चलाई है । अब हिन्दू यह सहन नहीं करेंगे । इसके विरोध में ‘हिन्दुस्थान यूनीलीवर’ के उत्पादों का बहिष्कार करने का आवाहन करते हुए आंदोलन छेडा जाएगा, ऐसा भी हिन्दू जनजागृति समिति ने सूचित किया है ।

सुन्दर कुमार ( प्रधान सम्पादक )

Mysticpowernews

मिस्टिक पावर (dharmik news) एक प्रयास है धार्मिक पत्रकारिता(religious stories) में ,जिसे आगे अनेक लक्ष्य प्राप्त करने हैं सर्वप्रथम पत्रिका फिर वेब न्यूज़ और अगला लक्ष्य सेटेलाइट चैनेल ............जिसके द्वारा सनातन संस्कृति(hindu dharm,sanatan dharma) का प्रसार किया जा सके और देश विदेश के सभी विद्वानों को एक मंच दिए जा सके | राष्ट्रीय और धार्मिक समस्याओं(hindu facts,hindu mythology) का विश्लेषण और उपाय करने का एक समग्र प्रयास किया जा सके |

Mysticpowernews has 574 posts and counting. See all posts by Mysticpowernews