दीपावली के संदर्भ में अध्यात्मशास्त्रीय जानकारी

सुरेश मुंजाल हिन्दू जनजागृति समिति वसुबारस अर्थात् गोवत्स द्वादशी – 25अकटुबर 2019 वसुबारस अर्थात् गोवत्स द्वादशी, दीपावली के आरंभ में

पूरा पढें

दीपावली और धनतेरस महात्म्य

अरुण उपाध्याय (धर्म शास्त्र विशेषज्ञ) दीपावली का महत्त्व-दीपावली के बाद कार्त्तिक शुक्ल पक्ष से कार्त्तिकादि विक्रम सम्वत् आरम्भ होता है

पूरा पढें

दीपावली में आतिशबाजी

अरुण उपाध्याय (धर्म शास्त्र विशेषज्ञ) सनातन धर्म में पर्व परम्परा विश्व विदित है सबसे अधिक पर्व हमारे धर्म में ही

पूरा पढें

अखंड सुहाग का प्रतीक-करवा चौथ

कृतिका खत्री (सनातन संस्था दिल्ली) करवाचौथ व्रतेन दीक्षामाप्नोति दीक्षयाऽऽप्नोति दक्षिणाम् । दक्षिणा श्रद्धामाप्नोति श्रद्धया सत्यमाप्यते ।। अर्थ : व्रत धारण

पूरा पढें

प्राचीन भारतीय साहित्य में विश्व मानचित्र का सन्दर्भ

  अरुण उपाध्याय (धर्म शास्त्र विशेषज्ञ ) आर्यभटीय में लिखा है कि उत्तर ध्रुव जल भाग पर तथा दक्षिणी ध्रुव

पूरा पढें

चारो युगों का ज्योतिषीय अर्थ

अरुण उपाध्याय (धर्म शास्त्र विशेषज्ञ ) कलि: शयानो भवति संजिहानस्तु द्वापर:। उत्तिष्ठन् त्रेता भवति कृतं संपद्यते चरन्।।-ऐतरेय ब्राह्मण भावार्थ- जो

पूरा पढें

जानिए वनवास के समय कहाँ रहे श्री राम

निर्माता निर्देशक – सुन्दर कुमार कथानक/सम्पादन -डॉ.निशान्त सिंह विडियो एडिटर – प्रशान्त कुमार पार्श्व स्वर -चेतना त्यागी

पूरा पढें