धर्म शास्त्रों में कन्या का महत्व

दुर्गा सप्तशती ( मार्कण्डेय पुराण ८२/७९) के मध्यम चरित्र में सारे देवता अपना – अपना तेज देकर उस तेज को

पूरा पढें