चारो युगों का ज्योतिषीय अर्थ

अरुण उपाध्याय (धर्म शास्त्र विशेषज्ञ ) कलि: शयानो भवति संजिहानस्तु द्वापर:। उत्तिष्ठन् त्रेता भवति कृतं संपद्यते चरन्।।-ऐतरेय ब्राह्मण भावार्थ- जो

पूरा पढें