पराशक्ति भगवती 

विष्णुशक्तिः परा प्रोक्ता क्षेत्रज्ञाख्या तथा परा। अविद्या कर्मसंज्ञानां तृतीया शक्तिरिष्यते॥ (विष्णुपुराण ६/७/६१) पराशक्ति के 3 परिणाम या विभाव होता है 1)चित शक्ति।

पूरा पढें